Close
Picture of लोभ-पैसो का व्यवहार - भाग १ पूज्य नीरू माँ

लोभ-पैसो का व्यवहार - भाग १ पूज्य नीरू माँ

पूज्य नीरू माँ व्यापार में धर्म के लिए रास्ता दिखाया है| वह कहते है कि हमारे अंदर के भाव में दूसरों को चोट पहुचाएँ बिना हमारे सारे रूण दे देने चाहिये, व्यापार अच्छा नहीं चले तो भी|
Availability: In stock
Old price: Rs 50
Price: Rs 25
Description

पूज्य दादाश्री कैसे डर बिना और तनाव मुक्त हो कर व्यवसाय चलाने कि वैज्ञानिक समझ देते है | इसके अलावा व्यापार में उतार और चढ़ाव के लिए और शांतिपूर्ण रहने कि महत्वपूर्ण चाबियाँ देते है| चिंता करने से व्यापार पर हानिकर होता है | कई लोगों के पास पैसे है लेकिन कोई खुशी नहीं है, व्यापार में अमीर लेकिन दुखी है | व्यापार में बेईमानी अनुचित पैसे का क्या फल आता है, उसके परिणाम और जोखम समजाय है | पूज्य नीरू माँ ने व्यापार में धर्म करने का रास्ता दिखाया है| वह कहते है कि हमारे अंदर के भाव में दूसरों को चोट पहुचाएँ बिना हमारे सारे रूण दे देने चाहिये, व्यापार अच्छा नहीं चले तो भी| व्यापार में नैतिकता को समझने कि जानकारी प्राप्त करे इस VCD में |