Close
Picture of दादा भगवान भाग 5

दादा भगवान भाग 5

वृक्ष की महानता उसके बीज में रहती है। दादा अपने आसपास कैसे बीज बो रहे थे?
0.55
:
Description

दादा भगवान इस काल के महान ज्ञानीपुरुष हो चुके हैं। दैनिक जीवन में होनेवाली हर एक घटना को देखने की और उनमें से सार निकालने की उनके पास वैज्ञानिक दृष्टि थी। जीवन के हर एक पहलू में खड़ी होनेवाली उलझनों के समय वे खुद से ही प्रश्न पूछते थे और उस पर मनन करके उसमें से हल निकालते थे।

घटनाएँ तो जैसी अपनी जीवन में घटती है, वैसी ही ज्ञानी के जीवन में भी घटती है लेकिन हम उसे पूरा करते हैं और वे निकाल करते हैं, उसमें बहुत फर्क होता है। बचपन से ही उनमें विकसित हुई बोधकला और ज्ञानकला, उनके व्यवहार की हर एक उलझन को सरलता से और किसी को भी दुःख न पहुँचे, उस तरह हल ला सकती थी। इस तरह की कई चाबियाँ हमें इस पुस्तिका में से मिलेगी। जो जीवन में खड़ी होनेवाली उलझनों का सरलता से समाधान लाने की दृष्टि खोल देगी।